Saturday, May 18, 2024
-Advertisement-
Reimagining Public Sector Analytics
Reimagining Public Sector Analytics
HomeEducationSSC Stenographer Exam 2017: न बुर्का, न सानिया मिर्ज़ा की नथुनिया, न झुमके, न जूते, सिर्फ चप्पल में आयें,...

SSC Stenographer Exam 2017: न बुर्का, न सानिया मिर्ज़ा की नथुनिया, न झुमके, न जूते, सिर्फ चप्पल में आयें, कहा SSC ने

Follow Tech Observer on Google News

कर्मचारी चयन आयोग (SCC) नहीं चाहता है कि उम्मीदवार घूंघट, नथुनि, झुमके, पूर्ण आस्तीन वाले कपड़े या जूते पहन कर आगामी स्टेनोग्राफर ग्रेड 'सी' और 'डी'  परीक्षा देने आएं। आयोग ने कहा है की उम्मीदवार चप्पल या फ्लोटर में आ सकते हैं।

Google News

: कर्मचारी चयन आयोग (SCC) नहीं चाहता है कि उम्मीदवार घूंघट, नथुनि, झुमके, पूर्ण आस्तीन वाले कपड़े या जूते पहन कर आगामी स्टेनोग्राफर ग्रेड ‘सी' और ‘डी'  परीक्षा देने आएं। आयोग ने कहा है की उम्मीदवार चप्पल या फ्लोटर में आ सकते हैं। आगामी स्टेनोग्राफर ग्रेड ‘सी' और ‘डी'  परीक्षा 11 सितंबर से 14 सितंबर के बीच में आयोजित की जाएगी।

SSC ने अपनी वेबसाइट- ssc.nic.in पर जारी अधिसूचना में कहा की अभ्यर्थियों को घूंघट, बेल्ट, अंगूठी, कंगन, झुमके, नाक-पिन, चेन, हार, पेंडेंट, बैज जैसे धातुओं वाले सामान नहीं पहनना चाहिए। एसएससी ने ये भी सलाह दी है की हेयर पिन, हेयर बैंड, पूर्ण आस्तीन या बड़े बटन आदि के कपड़े न पहने और जूते की बजाए चप्पल, फ्लाटर में आयें क्योंकि उम्मीदवारों को फ्रिस्किंग स्टाफ द्वारा जूते हटाने के लिए कहा जाएगा।

एसएससी जो केंद्र सरकार के लिए भर्ती के लिए विभिन्न परीक्षाएं आयोजित करता है ने कहा कि जारी किए गए निर्देशों का उद्देश्य उम्मीदवारों को सूचित करना के क्या करे और क्या न करें । आयोग ने उम्मीदवारों को सख्ती से सलाह दी है कि बैग, मोबाइल फोन और घड़ियां, किताबें, पेन, पेपर चिट, मैगज़ीन, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स जैसे मोबाइल फोन, ब्लूटूथ डिवाइस, हेड फोन्स, पेन / बटनहोल कैमरे, स्कैनर, कैलकुलेटर, स्टोरेज सामान परीक्षा हॉल में न लायें.

एसएससी ने कहा कि परीक्षा हॉल में में रफ़ काम के लिए पेन / पेंसिल और पेपर प्रदान किया जाएगा।समय देखने के लिए इलेक्ट्रॉनिक घड़ी (टाइमर) उम्मीदवारों के आवंटित कंप्यूटर स्क्रीन पर उपलब्ध होगा। एसएससी ने कहा, “यदि कोई उम्मीदवार किसी भी वस्तु को लेकर लाता है, तो उन्हें ऐसी वस्तुओं की सुरक्षित हिरासत के लिए अपने स्वयं के इंतज़ाम करना पड़ेगा। आयोग किसी भी प्रकार की सुरक्षा के लिए कोई भी व्यवस्था नहीं करेगा और न ही जिम्मेदार होगा।

“यदि परीक्षा में किसी उम्मीदवार के कब्जे में कोई ऐसी वस्तु मिलती है जो प्रतिबंधित है तो उसकी उम्मीदवारी को रद्द कर दिया जायेगा और उसके खिलाफ कानूनी कार्यवाही शुरू की जा सकती है और तीन  साल की अवधि के लिए आयोग की भविष्य की परीक्षाओं में भाग लेने से प्रतिबंध कर दिया जायेगा

एसएससी स्टेनोग्राफर (ग्रेड सी एंड डी) परीक्षा में स्टेनोग्राफी में ऑनलाइन टेस्ट और स्किल टेस्ट में ऑब्जेक्टिव टाइप मल्टीपल चाइस प्रश्न शामिल होंगे। उन आवेदकों, जो ऑनलाइन परीक्षा में योग्य होंगे, स्टेनोग्राफी में कौशल परीक्षण के लिए बुलाया जायेगा।

स्टेनोग्राफर के पद के लिए SSC Stenographer Exam 2017 दो घंटे की अवधि के लिए आयोजित किया जाता है। परीक्षा में 200 अंको की होती। प्रश्न पत्र में सामान्य बुद्धि और तर्क के लिए 50 अंक, सामान्य जागरूकता पर 50 प्रश्न और अंग्रेजी भाषा और समझ पर 100 प्रश्न होंगे। प्रत्येक गलत उत्तरा के लिए 0.25 अंक का नकारात्मक अंकन भी होगा।

Get the day's headlines from Tech Observer straight in your inbox

By subscribing you agree to our Privacy Policy, T&C and consent to receive newsletters and other important communications.
Tech Observer Desk
Tech Observer Desk
Tech Observer Desk at TechObserver.in is a team of technology reporters led by a senior editor who brings latest updates and developments from the world of technology.
- Advertisement -
EmpowerFest 2024
EmpowerFest 2024
EmpowerFest 2024
EmpowerFest 2024
- Advertisement -EmpowerFest 2024
- Advertisement -Education Sabha
- Advertisement -Veeam
- Advertisement -Reimagining Public Sector Analytics
- Advertisement -ESDS SAP Hana

Subscribe to our Newsletter

83000+ Industry Leaders read it everyday

By subscribing you agree to our Privacy Policy, T&C and consent to receive newsletters and other important communications.
- Advertisement -

100-day agenda for new government: Address migrant workers’ neglect with comprehensive policies

Political party manifestos neglect migrant worker policies despite their crucial role during COVID-19. Migrant workers, being unorganised and lacking a forum, remain unheard. Nonetheless, the state must create effective policies to address their concerns and establish an institutional framework for comprehensive support.

RELATED ARTICLES